Recent Post

Friday, March 31, 2017

“सुबेर नि हूंदि“ (गज़ल)

काम काज़ा की अब कैथै देर नि हूंदि
अजकाल म्यारा गौं मा सुबेर नि हूंदि

घाम त तुमरि देळमि कुरबुरि मै बैठु जांदु द्य
अगर सूरज़ थैं बूण भजणा कि देर नि हूंदि